सोमवार, 21 सितंबर 2020

एक व्यंग्य 63 : आमन्त्रण लिंक

 एक हास्य- व्यंग्य : आमन्त्रण-लिंक

मिश्रा जी ने आते ही आते अपनी उँगलियाँ दबानी शुरू कर दी।
,यह उनकी आदतों में शुमार है । वह तब तक ऐसा कुछ न कुछ करते रहेंगे
जब तक कि आप उन से पूछ न लें कि मिश्रा जी ! क्या हुआ ?
इससे पहले कि वह कुछ कहते,मैने ही पूछ लिया -’ मिश्रा जी ! क्या हुआ ?
’भई पाठक ! सुबह से सबको "आमन्त्रण-लिंक" भेजते भेजते उँगलिया दर्द करने लगी ,वही दबा रहा हूँ।
"आमन्त्रण -लिंक? कैसा? किसलिए? छोटे की शादी तय कर दी क्या ? निमन्त्रण-पत्र ही छपवा लेते’
-हा हा हा ! -मिश्रा जी अचानक हँस पड़े और सोफ़ा में धँस पड़े और मुखर हो पड़े-" शास्त्रों में लिखा है कि कुएँ के मेढक को कभी कभी कुएँ से बाहर भी निकलना चाहिए।"
-"क्या मतलब"?
"मतलब यह कि दुनिया कहाँ से कहाँ चली गई और तुम हो कि कलम-घिसाई में लगे हो।भइए ! कभी ’फ़ेसबुक’पर आओ ,कभी "व्हाट्स अप’ पर जाओ तो पता चले कि धूप कहाँ से कहाँ चढ़ चुकी है कविता-ग़ज़ल कहाँ से कहाँ पहुँच गई है ।क्या क्या ऊँचाइयाँ छू रही हैं। 25-30 मंच से जुड़ा हूँ। हर जगह से बुलावा आता है-- मिश्रा जी मेरे ’फ़ेसबुक’ पर लाइव आइए--कविता पाठ कीजिए--यहाँ आइए- इधर आइए --उधर मत जाइए - हम ’ज़ूम’ से प्रसारण कराते है -ओरिजिनल वर्जन पेड वर्जन से----मेरे यहाँ वाच पार्टी में आइए--ग़ज़ल सुनाइए
एकल काव्य पाठ कीजिए--समूह में कीजिए ---वाह वाह पाइए तालियाँ मुफ़्त में -मेरी काव्य-गोष्ठी में आइए --मालूम भी है तुम्हे कुछ?
कितनी माँग चल रही है मेरी --मेरी कविताओं की --मेरी गज़लों की ।-बेताब हैं लोग सुनने के लिए।कभी इस फ़ेसबुक पर कभी उस फ़ेसबुक पर । कभी यहाँ, कभी वहाँ ।उसी प्रोग्राम का सबको लिंक भेज रहा था सुबह से -लगा हुआ था कि उँगलियाँ थक गईं
-" तो लिंक के नीचे यह भी लिख दिया होता - मैने सुझाव दिया।
भेज रहा हूँ नेह निमन्त्रण ,प्रियवर तुम्हे बुलाने को
हे मानस के राजहंस तुम भूल न जाना आने को
-’मगर मिश्रा जी मैने आप को कभी कुछ लिखते हुए तो देखा नहीं ?
-"-तो पढ़ते हुए देख लो ।-मिश्रा जी ने एक कुटिल मुस्कान उड़ेली ।- इसीलिए तो कह रहा हूँ कि कुएँ के बाहर
भी एक दुनिया होती है । 4 बजे शाम को आलाना साइट पे मुझे सुनो--5 बजे फ़लाना मंच से सुनो--6 बजे ढकाना महफ़िल में देखो
--7-बजे विश्व हिंदी मंच से मेरा एकल काव्य पाठ सुन कर आशीर्वाद दो--8-बजे अन्तर्राष्ट्रीय मंच से-आन लाइन-9 बजे अन्तरराष्ट्रीय मंच से--आन लाइन--।-भाई साहब साँस लेने की फ़ुरसत नहीं--नन्ही सी जान है, कितने काम है !-
-मिश्रा जी ने सीना चौड़ा करते हुए यह बात कही
-" हाँ ! फ़ुरसत कहाँ मिलती होगी कुछ नया लिखने पढ़ने की ?
शायद मिश्रा जी इस वाक्य का निहित अर्थ नहीं समझ सके। और समझते भी कैसे ? अभी तो वह ’खुद को दिखाने" में व्यस्त हैं
’तुम कभी "आन लाइन लाइव’ हुए हो ?-मिश्रा जी ने पूछा”
"नहीं । मगर ऐसे निमन्त्रण/आमन्त्रण रोज़ आते हैं मेरे .’इन-बाक्स’ में ।हाँ ,एक बार एक ’लिन्क’ पर क्लिक किया था--खुला नहीं ।
फोन कर के पूछा--तो उन्होने बताया कि शाम 8-बजे खुलेगा भाई।
तब मालूम हुआ कि कुछ लोग शाम 8-बजे के बाद ही ’खुलते" हैं -- मखना चखना के साथ ।
"हाँ, गया था"-अब मैने सीना चौड़ा कर के कहा। जाने के पहले चार बार दरपन देखा, चालिस बार कंघी किया,बाल सँवारा। "अर्ध गंजे सर" से
माँग निकालना आसान होता है क्या !
गया था एक लिंक पर ।-एक घंटा तो "प्र्नाम-पाती ’ होता रहा ।-कोई सज्जन आत्म मुग्ध हो कर एकल कविता पाठ कर रहे थे।कभी बाल सँवार रहे थे।कभी हाथ जोड़ रहे थे,कभी सर झुका रहे थे ।कभी आँख मूँद रहे थे। एक लाइन सुनाते थे फिर पता नहीं झाँक झाँक कर क्या देख रहे थे? बीच बीच में कहते जा रहे थे -
-अहा दद्दा आ आ गए--सादर प्रनाम -शर्मा जी आ गए -अहा धन्य हो गया मैं ----स्वागत है--भाई वर्मा जी --किधर रह गए थे महोदय -
-। हाँ तो अगली लाइन सुने --अच्छा लगे तो अपने इस बेटे को आशीर्वाद ज़रूर दीजियेगा--हर 1-2 लाइन गाने के बाद -किसी न किसी का स्वागत ही कर रहे थे ।
-कुसुम दीदी आ गईं --स्वागत है--मीरा बहन का बहुत --अहा ’प्रिया आंटी- भी आ गई ? आंटी शब्द सुनते ही प्रिया जी बिना रुके ही चली गईं।
आई भी और गई भी । रिया भाभी --धन्यवाद --पधार कर मुझे कॄतार्थ कर दिया --हा तो-अगली लाइन सुनें-। अगली लाइन गाने के लिए जैसे ही उन्होने
अपनी आँखें बन्द की कि किसी आने वाले पर नज़र पर पड़ गई --और जैसे ही स्वागत के लिए मुँह खोला की नेट -आफ़ हो गया--।
पाँच मिनट की कविता में आधा घंटा लगा दिया ।
फ़ेसबुक वालों यू -ट्यूब वालों ने क्या इन्तज़ाम कर दिया कि अब हर आदमी गीत सुना रहा है--ग़ज़ल सुना रहा है -माहिया गा रहा है--लगता है हर लिंक पे गीतकार बहुत हैं -- ग़ज़लकार बहुत है --अदाकार बहुत हैं ।
एक और लिंक पर गया था । --देखा कोई देवी जी मुखरित थीं । बड़े लय से तरन्नुम में अपनी कोई गीत गा रही थी।बीच बीच में अपना आँचल भी सँभाल रही थी । यहाँ भी वही स्वागत --स्वागतम-- कार्यक्रम-चल रहा था --गीता दीदी का स्वागत-- नीता दीदी स्वागतम कमेन्ट बाक्स में धड़ाधड़ कमेन्ट दिए जा रहे थे--वाह वाह--बहुत मधुर आवाज-- कोकिल कंठी है---क्या आवाज़ पाई है
खुदा की देन है --वाह बहुत खूब-- क्या गीत गा रही है मोहतरमा --अभूतपूर्व --कभी सुना नही ऐसा --क्या दर्द समेटा है -अपने दिल में ,--- कलेजा मुँह को आ जावे है ।क्या सूरत पाई -वल्लाह -क्या सीरत पाई-या खुदा- क्या जल्वा नुमाई--यारब। खुदा जब हुस्न देता है---।
सैकड़ो --वाह वाह-- के बाद आधे घंटे का कार्यक्रम एक घंटे में सम्पन्न हुआ ।
लोग अपने अपने घर गए। जो घर पे सोए रह गए -उन्हें कार्यक्रम की " विडीयो रिकार्डींग ’ भेज दिया गया --इस संदेश के साथ कि जब आप सो रहे थे तो मैने गीत ग़ज़ल को कहाँ से कहाँ पहुँचा दिया ---आप भी इस विडियो को देखें ,अपने दोस्तों रिश्तेदारों को भेजे ,अपने मंच के सदस्यों को आगे पहुँचाए---पुण्य मिलेगा--लाभ होगा ।आप पर लक्ष्मी की कृपा बरसेगी।
हम पर लक्ष्मी की कृपा बरसे न बरसे मगर विडियो के हर अग्रेषण पर फ़ेसबुक वालों पर कृपा ज़रूर बरसेगी ।
-----
--- ख़ैर ।
कुछ दिनों बाद वह देवी जी टकरा गई और टकराते ही वाह वाह की प्र्त्याशा में उन्होने मुझसे पूछ लिया -’उस दिन मेरी कविता कैसी लगी आप को ?"
"कविता ? कौन सी ? मैं तो बस आप को ही देखता रहा । क्या साड़ी पहनी थी वाह वाह आप -वाह बहुत सुन्दर लग रही थी । क्या करीने से ’प्लेट’ लगाई थी आप ने ! बनारसी थी? मेक अप भी कमाल का ।कौन सा पार्लर था ?
हाँ आप के गले का चेन बहुत वज़नी लग रहा था 7-8 तोले से कम तो क्या रहा होगा?
-अरे महराज ! मैं कविता के बारे में पूछ रही हूँ-कविता कैसी लगी ?कविता के बारे में ?
कौन सी कविता ? क्या कहने ! वाह वाह ! आप का रंग रूप देख कर ही कविता की सुन्दरता का अन्दाज़ा लगा लिया था। मैं ’कवर’ देख पुस्तक पढ़ने का आदी हूँ
। क्या सुना ?मैं क्या बताऊँ? बस इतना ही समझ लीजै
- -गिरा अनयन ,नयन बिनु बानी--
कॄष्ण बिहारी ’नूर’-साहब से भी पूछती तो वह भी यही कहते
हो किस तरह से बयाँ तेरे हुस्न का आलम
जुबां नज़र तो नहीं है ,नज़र ज़ुबाँ तो नहीं
तारीफ़ उस ख़ुदा की जिसने तुझे बनाया--
-॑॑"हट मुए" - कह कर वह जो गईं सो गईं ।बाद में मुझे "ब्लाक" भी कर दिया।
------
यारमिश्रा ! उन्होने मुझे "ब्लाक" क्यों कर दिया ? -
मिश्रा ने रहस्य बताया ,अनुभवी आदमी था -- वह अपनी कविता पर ’वाह’ वाह सुनना चाहती थी -तुम-भगवान की रचना पर वाह वाह करने लगे ।--
वह अपनी रचना के सौन्दर्य के बारे में पूछ रही थी । तुम भगवान की रचना के सौन्दर्य का वाह वाह करने लगे ।
-और -"मुए"- क्यों बोला ?-
-इसलिए कि "जा मर" और भगवान की रचना का वाह वाह भगवान के पास जा के कर।
एक बात और बता दूँ- तुम्हारी इसी हरकत के कारण सब महिला कवयित्रियॊं ने तुम्हें "ब्लाक" कर रखा है।
अस्तु
-आनन्द.पाठक-

मंगलवार, 8 सितंबर 2020

एक व्यंग्य 62: अनाम "कविता-चोर" जी का उत्तर


[नोट : इसी मंच पर दिनांक 01-09-20202 को एक पत्र -’कविता- चोर" महोदय के नाम लिखा था जिसे आप लोगों ने पढ़ा भी होगा ।
उन्ही ’चोर श्रीमान  जी ’ का उत्तर अब प्राप्त हो गया है । पाठकों का आग्रह था कि वह पत्र भी प्रकाशित करूँ -सो कर रहा हूँ ।

एक व्यंग्य :  अनाम "कविता-चोर" जी का उत्तर

आदरणीय श्रीमन !
दूर से ही नमस्कार

 पत्र मिला । समाचार जाना ।आरोप भी जाना ।

इधर ’करोना’ का प्रकोप कम नहीं हो रहा है , हम सब साथी गण अपने
अपने अपने घरों में कैद हैं । मंच ,मुशायरों से भी ’माँग नहीं आ रही है। घर में बैठे बैठे
’आन लाइव---वाच पार्टी -- फ़ेसबुक-पर अपनी ही कविता का कितनी बार पाठ करें?
 अपनी  शकल  देखते दिखाते झाँकते झाँकते मन उब सा गया है ।कुछ वीर बहादुर है
  जो "फ़ेसबुक लाइव" में अभी तक डटे हैं ।हर रोज़ सज-सँवर कर चेहरा दिखाते रहते हैं।

तो हे सयाणॆ श्री !

पत्र में तुमने जिस भाषा का प्रयोग किया है उससे पता चलता है कि तुम्हारी शिक्षा-दीक्षा ज़रूर किसी "मुन्यसपिल्टी
स्कूल" में हुई होगी । अगर ’कान्वेन्ट स्कूल" में हुई होती तो ’अंगरेजी’ में गाली देते । डिग्री पाना अलग बात है-’शिक्षित होना
अलग बात है-’आदमी होना अलग बात है -शायर  होना तो  ख़ैर दूर की बात है ।। भारत सरकार को नई शिक्षा नीति
 में मोदी जी को इस पर विचार करना चाहिए कि आनन्द जैसा आदमी भी एक आदमी बन सके ।

आप ने कविता चोरी का जो आरोप मुझ पर लगाया है ,वह झूठ है ।मीडिया ने , तुम ने, सब ने  तोड़-मरोड़ कर पेश किया  है ।मुझे अपनी सफ़ाई का मौक़ा दिए बिना ही  ’चोर’ ठहरा दिया। यह कहाँ का न्याय है ? वस्तुत: तुम्हारी उस ’तथाकथित’ कविता के -नीचे मैं अपने नाम और अपने नाम के आगे  ’प्रस्तोता"-या -"प्रस्तुतकर्ता"  -लिखने ही जा रहा था कि लोगों ने चोर चोर कह कर शोर मचाना शुरु कर दिया। कुछ लोग थाना-पुलिस की बात करने लगे तो मैं छोड़ कर भाग गया । प्रस्तोता छूट गया -- मेरा नाम रह गया-।चिराग़ हसन ’हसरत’
साहब ने कहा भी
           
            ग़ैरों से कहा तुम ने, ग़ैरों से सुना तुम ने
            कुछ हम से कहा होता, कुछ हमसे सुना होता

तो हे -काव्य शिरोमणि ! -

 तुम्हारी वह घटिया कविता चुरा कर मैं तब से पछता रहा हूँ । कौड़ी की कविता थी ।ऐसी कविता तो कौड़ी के तीन मिल जाती है। सुनने को कोई तैयार नहीं  । चाय पिलाने की शर्त पर भी कोई सुनना नहीं चाहता ।।पैसा देकर मैं ’सम्मान’ तो करा सकता हू।मगर पैसा देकर कविता नही सुना सकता ?राम ! राम! राम!

और  वो कविता ! धत !

न वो ज़मीं के लिए ,है न आस्मां के लिए
तेरा कलाम है महज ’ख़ामख़्वाह’ के लिए

 बहुत से लोग अपने नाम के आगे -शायर अमुक सिंह- गीतकार प्रमुख शर्मा--ग़ज़लकार कुमुक वर्मा--लिख लेते है।
 ऐसे लोगों की कविताएँ मैं नहीं चुराता। जानता हूँ वो क्या लिखते है । उनकी चुरा कर उन्हें और क्यों मशहूर कराना ?
तुम्हारी कविता इस उमीद से चुराई थी कि गली कूचे के अनाम कवि हो -क्या शोर मचाओगे ।मशहूर हो जाओगे।
इब्ने इन्शा साहब मरहूम ने कहा था

            इक ज़रा सी बात थी जिसका चर्चा पहुँचा गली गली
            तुम गुमनामों ने फिर भी ऐहसान न माना  यारों  का

 इन्शा साहब ने  तो ’हम’ लिखा है --’तुम’-तो मैने कर दिया कि बात ज़रा साफ़ रहे।

हे ढक्कन श्री ! माटी के माधो !

पत्र में तुमने  पूछा है  कि मैं -कहानी--नाटक -उपन्यास क्यों नहीं चुराता ?भई मेरे!
। साहूकार, सुनार के घर से भूसा का झौआ चुरायेंगे क्या --ख़ाद की बोरी उठायेंगे क्या ?
तेली के घर से ’कोल्हू’ सर पे उठा कर लायेंगे क्या
?जल्दी जल्दी में जो माल-पत्तर मिलेगा वही उठायेगे न ?
इतनी ’व्यंजना’ तो समझते होंगे?कोल्हू के बैल जो ठहरे !

तो हे कलम घिसुए महराज जी !

अब में अपनी औक़ात पर आता हूँ-
- तेरी बात से अपुन का माथा सटकेला है --कलम थकेला है - करोना से डरेला है, वरना--
---ज़ादे शन-पट्टी मत दिखा --थाना पुलिस करेगा --तो अपुन का तेरी  अख्खा क़लम  उठा लेगा
--न रहेगा बाँस न बाजेगी बँसुरी।भेजा में घुसेला क्या !
जा अपना काम कर !फिर चिट्ठी मत लिखना ।
तेरा --
शुभ चिन्तक
-अनाम-
-----------------
-आनन्द.पाठक--

मंगलवार, 1 सितंबर 2020

एक व्यंग्य 61: एक पत्र -कविता चोर के नाम

एक व्यंग्य : एक पत्र 
कविता- चोर के नाम 

हे मेरे कविता प्रेमी !

सादर चरण स्पर्श

अत्र कुशलम ! तत्रास्तु ?आशा करता हूं कि आप ’चुल्लू भर पानी’ ढूँढ रहे होंगे ।

सुबह ही सुबह ,जब मेरे मित्रों ने ’ब्रेकिंग न्यूज़ ’ शैली में यह ख़बर सुनाई की मेरी एक कविता
फिर चोरी हो गई तो मेरा मन अति प्रफ़्फ़ुलित हो गया । अब मेरी कविता गीत ग़ज़ल ’चोरी’ होने के योग्य
हो गई ।बड़ी हो गईं। चोरों की नज़रों में चढ़ गई और मैं स्वयं अपनी नज़रों चढ़ गया। मेरी वह कविता चोरी कर के आप ने उसे अमर कर दिया ।

ना "ब्लाग" की सीमा हो, ना ’व्हाट्स अप" का बन्धन
मेरे गीत चुरा लेना , जब चाहे तेरा मन 

मेरे गीत चुरा कर तुम --मेरे गीत अमर कर दो
इस चोरा-चोरी की, सखे! रीति अमर कर दो 

सुबह से ही फ़ोन की घंटियाँ टनटना रही है । मित्रों की उत्सुकता है। जानना चाह्ते है कि कौन सी वह  कविता थी
जिसे ’चुरा’ कर आप ने अमरत्व प्रदान कर दिया । वे सब इस अदा से पूछ रहें कि हाय ! वो गीत उन्होने  क्यों न चुराया ।

हे प्रियवर !
तुझे  सूरज कहूँ या चन्दा ,तुझे दीप कहूँ  या तारा
मेरा नाम करेगा रौशन ,तू गीत चुरा के दुबारा

मैं कब से तरस रहा था --मेरा गीत  चुरा ले कोई--

माफ़ करना मित्र ! मारे खुशी के, मैं क्षण भर के लिए विषय पथ से भटक गया ।
आप को सूरज-चन्दा क्या कहूँ। और भी बहुत से शब्द हैं आप के लिए --चोर --चोरकट-- उच्चक्का
-चाईं--गिरहकट--उठाईगीर- --पाकेटमार--जेबकतरा--चोर -महाचोर--।किस पद्म श्री से विभूषित करूँ, महराज!
डकैत इसलिए नहीं लिख रहा हूं कि डकैतों के सम्मान में  गुस्ताखी हो जायेगी।और ’लुच्च्चा,लफ़ंगा,आवारा--दूसरी श्रेणी के शब्द हैं।

चाईं तो आप समझते होंगे ? नहीं ? तो मुगल सराय जंक्शन पर ऐसे बहुत से मिल जायेंगे कहते हुए
"सौ चाईं --एक मुगलसराई"
कभी पाला नहीं पड़ा । बस सुना ही सुना है ।

हे मित्र प्रवर !
आप स्वयं पर शर्मिन्दा न हों ।
बहुत से लोग ऐसा काम करते रहते हैं। कोई दिल चुराता है ,कोई नज़र चुराता है, कोई "टैक्स’ चुराता है।
राजकुमार जी तो खुली आँखों से ’सुर्मा"  चुरा लेते थे ।
मेरा तो एक ’दिल चुरा" के ले गई सो आज तक लौटाई ही नहीं।
" कहते हो न देंगे हम दिल अगर पड़ा पाया "--अच्छा है ,मत देना ,मगर मेरा दिल किसी और को न दे देना।
इक तुम ही नहीं तनहा चोरी में मेरे रुस्वा
तुम जैसे यहाँ  मंचो पर चोर हज़ारों हैं

मैं भी ऐसा ही चोर कर्म करता रहता हूँ यदा-कदा । किसी के-ग़ज़ल की ज़मीन चुरा लेता हूँ। भाव चुरा लेता हूँ ।
भावना चुरा लेता हूं।किसी की कल्पना चुरा लेता हूँ ।कभी कभी 1-2 मिसरा भी चुरा लेता हूँ ।
 परन्तु मैं इसे चोरी का नहीं, ’प्रेरणा’ का नाम देता हूँ।,
एक सलाह है आप को। आप यह " चोर-कर्म ’ शौक से करें परन्तु 1-2 शब्द ज़रा इधर उधर ज़रूर कर दें
1-2 रदीफ़-क़ाफ़िया ही बदल दें । अरे नहीं नहीं --रदीफ़ नहीं बदलना भाई मेरे--रंगे हाथ पकड़े जाओगे।
एकाध मिसरा ऊपर नीचे कर दें । हू-ब-हू न उतारें । फिर आप का कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता ।
 तन कर खड़े हो सकते हो।ग्लानि-मुक्त हो सकते हैं।

न हारा हूँ मैं  - न तुम ही थके हो 
मैं तो हूँ कच्चा --तुम तो पके हो

अगले पत्र में आप को”चौर्य कर्म ’के और भी गुर सिखा सकते है ।
एक मंच भी बना सकते हैं -जैसे बड़े बड़े शहरों में -एक ’चोर बाज़ार ’ होता है । चोर-हटिया होता है ।

हे मेरे शुभ चिन्तक !
मुझे आजतक यह बात समझ में न आई कि लोग गीत, ग़ज़ल, माहिया ही क्यों चुराते हैं? कहानी, उपन्यास  क्यॊं
नही चुराते? इस प्रश्न का उत्तर लौटती डाक से अवश्य दीजियेगा।

इस कविता चोरी पर मेरे कुछ मित्रॊ ने अयाचित सलाह दी कि मैंअविलम्ब  इस चोरी की रिपोर्ट किसी थाने में
करूँ।मैने किया था एक बार वह भी  । । यह एक अलग किस्सा है । अब लौं नसानी ,अब ना नसइहों। अगले किसी पत्र
में इसकी चर्चा करूँगा । किसी ने सलाह दी कि अपनी ग़ज़ल में ”तख़ल्लुस’ का ताला लगा दो । मैने वह भी किया।
आप के हुनर के आगे मेरा हुनर कुछ काम न आया।

मित्रवर !
एक श्रीमान ने तो मेरा तख़ल्लुस हटा कर अपना ’तख़ल्लुस’ डाल दिया ।वह शख़्स पूर्व जनम में ज़रूर शायर रहा होगा । उसने  अपना तख़ल्लुस इस सफ़ाई
से डाला ’हम वज़न ’ हम क़ाफ़िया ’ बा-बह्र , बना कर डाला  वल्लाह क्या कहने  कि  एक बार तो हम भी अपनी ग़ज़ल को उसका ही ग़ज़ल समझ बैठे ।
वाह वाह कर बैठे। दाद दे बैठे ।ख़ुदा उसके इस ’हुनर’ को  और बुलन्दी अता करे।

मेरी एक मित्राणी  [ महिला मित्र ] ने सलाह दी  कि मै  अपनी ग़ज़ल में ऐसी भयंकर ग़लती कर के डाल दूँ  कि वैसी ग़लती बड़े से बड़ा शायर  भी न कर सके।
वह ग़लती ही आप का ’सिगनेचर स्टेट्मेन्ट" होगी और चोरी तुरन्त पकड़ी जायेगी ।श्रीमन! मैने  वह भी किया । मगर ’अली बाबा चालीस चोर ’ शैली में सभी ने
अपनी अपनी  ग़ज़ल में वैसी ही ग़लतियाँ डालनी  शुरु कर दी । मेरी रचना चोरी होने से वंचित तो हो गई पर मै उस सुख से वंचित हो गया जो चोरी होने के बाद
मुझे मिलता था । वही सुख -वही आनन्द --तुम्हें सूरज कहूँ या चंदा -वा्ला  सुख -।
उन महिला मित्र ने सबको यही सलाह दी और सभी ने माना। कारण-सभी शादी-शुदा थे ।

किसी मित्र ने सलाह दिया कि तुम अपनी रचना के अन्त में "अपनी स्वरचित रचना" लिख दो। कोई माई का लाल नहीं चुरा पायेगा ।
तो हे मेरे काव्य प्रिये ! तुम भी तो किसी माई के लाल ही होगे ?
अब तो बहुत से लोग अपनी रचना के नीचे ’ कापी राइट -फ़लाना सिंह ’ लिख देते हैं । हा हा हा । वो अज्ञानी है । मूढ़ हैं।
आप जैसे खानदानी चोर के लिए  इन छोटे-मोटे तालों की क्या औक़ात !
आप के इस " चौर्य कर्म " में आप का ’शौर्य’ झलकता है -जैसे आप कह रहे हों --हाँ मैने चुराया है --क्या कर लोगे ?
प्रभु ! मैं एक दीनहीन  कवि क्या कर सकता हूँ । आप ने यशोधरा को नहीं पढ़ा

  हाँ तुम मुझ से कह ,ले जाते 
तो क्या अपने चोर-कर्म में मुझको बाधा पाते ?
 हाय !तुम मुझ से कह  ले जाते 

हे मित्रवर !
अगर आप कहते तो आप के श्री चरणॊ में ऐसे ही 2-4 गीत  ऐसे ही  समर्पित कर देता  -फ़्री में । कम से कम यह पाप तो आप को नहीं करना पड़ता।
"फ़्री में"- इसलिए कि मेरे एक साहित्यिक मित्र बता रहे थे कि उनके पास किसी का [ महिला या पुरुष ,नहीं बताया ] एक ऐसा प्रस्ताव आया था कि वह अपनी रचनाएँ
उन्हे देते जाएँ -और उनसे धन लेते जाए । धनोपार्जन का अच्छा साधन हो जायेगा ।
पता नहीं इसमें कितनी सत्यता थी  --मगर अन्त में  उन्होनें जो बताया वह बिल्कुल सत्य था।

उन्होने बड़े दर्द भरे स्वर में बताया ---पाठक जी -जानते हैं -मैं बिक सकता हूँ , मेरी ’क़लम’ नहीं बिक सकती ।
फिर मैने उनकी क़लम को प्रणाम किया।

तो हे मित्र !
यह पत्र अब लम्बा हो चला है और आप को भी जम्हाई आ रही होगी रात में "सत्कर्म" करते करते थक जो गए होंगे।
"ये न थी हमारी क़िस्मत कि विसाल-ए-यार होता। ख़ैर।कभी साक्षात मिलेंगे तो चरण वन्दना भी कर लूँगा
अपने अन्य साथियों को मेरा प्रणाम कहिएगा ।अगले पत्र में अन्य  बातों पर मिल कर विस्तार से चर्चा करेंगे।
 । भगवान आप के ’ हुनर’ को यूँ ही ज़िन्दा रखे।

उत्तर की प्रतीक्षा में

भवदीय

-आनन्द.पाठक-