गुरुवार, 8 अप्रैल 2021

एक व्यंग्य 81 : फ़ेसबुक पर छींक

 एक व्यंग्य व्यथा : फ़ेसबुक पर छींक


"कल गुरू जी ने मुझे दीक्षित करते हुए कहा-बेटा जा तेरी शिक्षा पूर्ण हुई अब ’फ़ेसबु’क’ पर अपना कमाल दिखा। एक बात बात ध्यान रखना हर 7-दिन पर अपना "डी0पी0" ज़रूर बदलते रहना और हर 15- दिन पर कोई न कोई ”पोस्ट’ ज़रूर डालते रहना।अगर 1-महीना तुम फ़ेसबुक पर फ़ेस नहीं दिखाओगे तो दुनिया तुम्हें "इहलोक" से "उह लोक" समझ लेगी--मिश्रा जी ने सुबह ही सुबह आते हुए उचारा।
मिश्रा ! यह मेरा फ़ेस है ,फ़ेसबुक नहीं "- मैने कहा।

;नहीं फ़ेसबुक मेरी मोबाइल में हैं। कल एक पोस्ट डाली थी। 70-लाइक और 72- कमेन्ट मिल चुके हैं अबतक। तुम भी एक लाइक कर दो। ताई जी से
और बरतन वाली बाई जी से भी ’लाइक’ करवा दो तो अच्छा रहेगा ।--उन्होने अपना मोबाइल मेरी तरफ़ बढ़ाते हुए कहा-" लाइक यहाँ’।
"अच्छा तो तुम्हें भी 70 शूल 72 बाई का रोग हो गया"- मैने हँसते हुए कहा
’-क्या मतलब?
-मतलब तुम्हे समझ में नहीं आयेगा। भई बिना पढ़े कैसे ’लाइक’ कर दूँ ?
- रह गए तुम निरा घोंचू के घोंचू । पढ़ कर कौन लाइक करता है ? लाइक पहले करता है ,पढ़्ता बाद में है। पढ़ लेगा तो फिर लाइक नहीं करेगा "--मिश्रा जी ने अपना ज्ञान बताया।
- भाई मिश्रा ! मैं तो फ़ेसबुक पर इतनी कविता ग़ज़ल कहानी लिखता हूँ मगर 10-12 से ज़्यादा लाइक और 5-10 से ज़्यादा कमेन्ट कभी नही मिलता ।

"तुम ज़िन्दगी भर क्लर्की किए हो न । फ़ेसबुक पर नोट शीट पर नोट शीट, ड्राफ़्ट पर ड्राफ़्ट जैसा कुछ कचरा लिखते होगे। मैने तो ज़िन्दगी भर अफ़सरी की, ’वन-लाइनर-पोस्ट’ [ एक लाइन का पोस्ट] लिखता हूँ 100-50 कमेन्ट तो चुटकी बजाते मिल जाते हैं । मेरे बड़े साहब तो फ़ाइल में उतना भी नहीं लिखते थे । बस- ???-लिख देते थे । और मैं समझ जाता था । फ़ाइल पर जब मैं ’Done "
लिख देता था तब वह फ़ाइल पर "स्वीकृत" देते थे । दुनिया समझती थी ’कम्प्लाएन्स डन"-।- साहब समझता था ’लिफ़ाफ़ा-डन" । सरकारी भाषा में इसे "सरल भाव सम्प्रेषण पद्धति"कहते है।बाद में कोई बदमाशी करता था तो साहब "स्वीकृत" के आगे "अ-" बढ़ा देते थे।
तुम भी ’वन लाइनर पोस्ट किया करो।

-"भई मिश्रा ! कौन सा वन लाइनर पोस्ट कर दिया था कल तुमने कि -- ।"
-यही कि -आज मैने छींक मारी--
-इस पर 70-लाइक 72- कमेन्ट ???
भगवान भला करे तुम्हारे चाहने वालों का -मैने कहा
-भगवान भला तो कर ही रहा है ’फ़ेस बुक ’ वालों पर।तुम्हें मालूम है एक से बढ़ कर एक कमेन्ट आए -मिश्रा जी उत्साह में आकर बताने लगे।
10-20 तो ’स्माइली" वाले "आइकान " थे 10-20 थोबड़ा लटकाए वाले आइकान थे जैसे तुम्हारा है।
एक ने लिखा --छींक किधर से मारी ,नाक से मारी या ---? छी-- छी-- छी --कैसे कैसे कमेन्ट करते हैं ये लोग। एक ने लिखा -छींक मारते समय आँख बन्द थी कि खुली थी?
एक व्याकरणाचार्य जी तो सवाल ही कर बैठे- श्रीमान ! क्या आप को मालूम है कि "छींकना" एक अकर्मक क्रिया है ?आप ’छींक" से ज़्यादा हिंदी पर ध्यान दें।
एक ने लिखा किस दिशा में छींक मारी --ईशान कोण से से अग्नि कोण से ? जब आप ने छींक मारी तो सम्मुख कोई था ? क्योंकि शास्त्रों में लिखा है -

सम्मुख छींक लड़ाई भाखै
छींक दाहिनी द्रव्य विनाशै
ऊँची छींक कहे जयकारी
नीची छींक होय भयकारी

कोई ज्योतिषी भाई थे।
एक सज्जन ने लिखा -

-" रऊआ छींक मारीं तऽ खेल हो जाई
सगरॊ अँगना "करौउना" फ़ईल जाई

बाद में मालूम हुआ कि कोई पूर्वांचली भाई थे ।बम्बई फ़िल्मों में भोजपुरी गीत लिखने गए थे कि प्रोड्यूसर ने वापसी का टिकट थमाते हुए कहा था--सर !आप अपने "अँगना" मे बैठ के गीत लिखें ।अच्छा लिखते हैं । तब से वह फ़ेसबुक के अँगना में गीत लिखते है।
एक महाशय ने तो अपना -वन लाइनर- जोड़ दिया "

आज मैने छींक मारी
हरहूँ नाथ मम संकट भारी

मालूम हुआ कि वह महाशय किसी मंच पर किसी दिए हुए मिसरे पर "गिरह" लगाते है।

एक ने पूछा कि जब आप ने छींक मारी तो संसद में ’विश्वास मत" तो पेश नहीं होने जा रहा था ? । एक छींक से मैने सरकार गिरते देखा है।
एक ने लिखा -आप ने मुँह पर मास्क लगा कर छींक मारी कि मास्क हटा कर ? अगर मास्क हटा कर छींक मारी तो करोना काल में आप समाज के लिए
घातक और अवांछित व्यक्ति हैं ।भारतीय दंड संहिता धारा अमुक--अमुक-- के तहत आप -बाक़ी आप स्वयं समझदार है।
शायद कोई वकील साहब थे।

एक फ़ेसबुकिया डाक्टर ने सलाह दी कि आप अपने नाक का सी0टी0 स्कैन करा लें -इसे आप साधारण नज़ला जुकाम न समझें -शायद आप के नाक में कोई गंभीर रोग न पल रहा हो। नास्ट्रिल कैन्सर भी हो सकता है । मिलिए गली नं 5 खोली नं 4 मोबाइल नं ---- । पहला कन्सल्टेशन फ़्री।

भाई साहब !जानते हैं इस ’वन-लाइनर’ के लिए एक मंच वाले ने " वन-लाइनर आफ़ द मन्थ " -का प्रथम पुरस्कार भी दिया है । 10-20 बधाइय़ाँ तो उस पुरस्कार पर ही मिल गईं।
एक ने लिखा---दूसरे ने लिखा "-तीसरे ने लिखा --- इससे पहले कि मिश्रा जी अपना कमेन्ट गाथा और विस्तार से सुनाते मैने बात बीच में ही काट दी--" बस बस ,बहुत हो गया । आप से ज़्यादा तो आप की ’छींक’ वायरल हो गई।
-गुरुदेव ! मुझे भी 1-2 ’वन लाइनर वाला पोस्ट बता दो। कम से कम मेरे गीत ग़ज़ल माहिया व्यंग्य पर मिलने वाले कमेन्ट से ज़्यादा ही कमेन्ट मिलेंगे।
मिश्रा जी ने 2 मिनट के लिए अपनी आँखें बन्द की और फिर प्रस्फुटित हुए। बोले आप पोस्ट डाल दो -

’आज के कुछ साहित्यकार घमंडी होते हैं--

--"कुछ"-शब्द ज़रूर लिखना वरना तुम भी लपेटे में आ जाओगे।
धन्य हो प्रभु ! आप महान हो-मैने दोनो हाथ जोड़ लिए।

अस्तु

-आनन्द.पाठक-

रविवार, 14 फ़रवरी 2021

एक व्यंग्य 80 :वैलेन्टाइन डे-3

 एक व्यंग्य व्यथा :  वैलेन्टाइन डे -3

 इस 3- से आप ’पानीपत का "तीसरा" युद्ध न समझ लें । हालाँकि नव संस्कृति के नए दौर में  ’वैलेन्टाइन डे" मनाना किसी पानीपत के युद्ध से कम भी नहीं  ,

जहाँ एक तरफ़ नए नए प्रेमी जोड़े लड़के-लड़कियाँ -दूसरी तरफ़ संस्कृति के ठेकेदार. प्रशासन, पुलिस और बीच में पानीपत का मैदान ।

 2-वैलेन्टाइन डे मना चुका हूँ -मगर शहीद न हो सका ]

14-फ़रवरी ।

आज वैलेन्टाइन डे है ।प्रेम का प्रतीक -प्रेम दिवस। दो दिन बाद सरस्वती पूजा है । ज्ञान का प्रतीक, ज्ञान दिवस ।

वैलेन्टाइन डे हमेशा 14-फ़रवरी को ही पड़ता है । लगता है यह दिन उतना ही अटल है, सत्य है, शाश्वत है, जितना "प्रेम’।

परन्तु ज्ञान दिवस [सरस्वती पूजा] ’14-फ़रवरी से कभी पहले आ जाता है,कभी बाद में । इस साल प्रेम  पहले आ गया.ज्ञान बाद में आएगा।

ज्ञान और प्रेम में कोई न कोई संबंध अवश्य है । ज्ञान होता है  तो प्रेम उपजता है  प्रेम हुआ तो ज्ञान । गोपियों को जब  ज्ञान उपजा,

तो उद्धव जी  फ़ेल हो गए} मगर जब ’प्रेम’ असफल’ होता है तो ज्ञान -चक्षु खुलता है ।मेरा तो कई बार खुल चुका है। मत पूछना कैसे ?

हम" वैलेन्टाईन डे" मनाते है इसलिए कि अंग्रेज  मनाते हैं ।हम उनसे कम है क्या ?  हमारे यहाँ उस स्तर का कोई "वैलेन्टाइन"  पैदा ही नहीं हुआ। लैला- मज़नूँ ,सीरी-फ़रहाद,सोहनी-महीवाल

यह सब तो किस्से है, पढ़ने के लिए  सोनपुर के मएला में  ददरी के मेला में ,नाटक खेलने के लिए , मेला में नौटंकी करने के लिए ।इसीलिए बहुत से लड़कियाँ आज भी  इस स्तर के  प्रेम को ’नौटंकी’ ही मानती  है । 

इन देसी किस्सों में वह उत्सर्ग कहाँ जो वैलेन्टाइन वाले किस्से में है-निस्वार्थ और निश्छल-माडर्न,एडवान्स ,हाइ क्लास का प्रेम। ,

वह तो भला हो पश्चिमी देश वालों का .अंग्रेजों का, जो बता दिया कि वैलेन्टाइन का प्रेम सबसे बढ़ कर-शुद्ध- सात्विक ।तुम लोग भी मनाया करो, सो मनाते है प्रेम भाव से।

इस दिन,  नई फ़स्लों पर ,नई पौध पर बहार आ जाती है। या कहिए छा जाती है ।झूमने लगते है ।आपस में गले मिलने लगते है लड़के-लड़कियाँ।

पहले मैं भी  झूमता था। बाग़ों में ,तितलियाँ पकड़ता था ।एक महीना पहले से ही जुगाड़ में लग जाता था । आने वाले परीक्षा की चिन्ता नहीं करता था। वैलेन्टाईन डे की चिन्ता ज़रूर करता था। अगर इसमे पास हो गए तो

समझो लाइफ़ बन गई ,अगर वह ’वाइफ़’ न बनी तो । नकल कर करा के इक्ज़ाम पास कर के भी  क्या करेंगे--ज़्यादा से ज़्यादा क्लर्की करेंगे। फिर वही जीवन घसीटना।

बाग में  बैठा कर "उसको"  समझा रहा था --- तुम कहॊ तो आसमान से चाँद-तारे तोड़ कर ला सकता हूँ --- तुम कहॊ तो तुम्हारे लिए जान भी दे सकता हूँ ,-तुम कहो हवा का रुख मोड़ सकता हूँ

तुम कहो तो----तुम कहो तो----हम दोनो का -- एक छोटा सा बँगला बनेगा, न्यारा,कोठी बँगला गाड़ी  होगा --,कुत्ता- होगा --

"कुत्ता" ? -बीच ही में बोल उठी वह।--नहीं जानूऽऽऽऽ  ! तुम्हारे रहते कुत्ते की क्या ज़रूरत ?

"हें हें हें --तू भी अच्छा मज़ाक कर लेती है" --मैने अपनी बत्तीसी निपोरी।

"जानती हो ! हम लोग स्विटजरलैंड चलेंगे शादी के बाद हनीमून पर " -मैने उसे समझाया-- स्विटजरलैंड देखा है ? मैने सीना चौड़ा कर के पूछा ।

"हाँ जानती हूँ।हर साल कोई न कोई  तेरे जैसा निठल्ला  ’स्विटजर लैंड ले जाता है मुझे ।"

 अभी सपने बुन ही रहा था कि किसी ने  पीठ पर अचानक एक डंडा जमा दिया --बिलबिला कर मुड़ कर देखा  पीछे मूछें ताने पुलिसवाला खड़ा है।

मैं हड़बड़ा कर बोल उठा --"सर कजिन है, मेरी कज़िन सिस्टर  "

स्साले !मुझको चराता है । मैं भी अपनी जवानी में ऐसे ही कज़िन सिस्टर घुमाया करता था ।चल थाने !

एक डंडे से ’रिश्ते’ कैसे बदल जाते हैं ।

ख़ैर ,ले देकर मामला रफ़ा दफ़ा हो गया। मगर वो भाग गई ।

 अब मैं उसे ढूँढने निकला । किधर गई होगी ? किसके साथ भागी होगी? कहीं ’स्विटजरलैंड’ तो नहीं चली गई?

मैं दिन भर उसे ढूँढता रहा । मगर वह न मिली ।

--   --    --   -----

मिश्रा जी ने आते ही आते पूछा --"अब पीठ का दर्द कैसा है ?"

पीठ? किसकी पीठ ? कैसी पीठ ?-कैसा दर्द ? -मैने आश्चर्य भाव से पूछा। 

"बड़े मियाँ दीवाने ऐसे न बनो !-मिश्रा ने जिगर मुरादाबादी का एक तरमीम शुदा शे’र पढ़ा 

"जिगर" तू ने छुपाया लाख अपना दर्द-ओ-ग़म लेकिन

बयाँ कर दी तेरी सूरत ने सब कैफ़ियतें  दिल की 

"भाग गई न ? साल भर का दिन बर्बाद हो गया न । मियाँ ! बिना ’स्टेपनी’ के गाड़ी चलाओगे तो ऐसा ही होगा। मेरा देखो -मैं दो-दो ’स्टेपनी’  साथ लेकर चलता हूँ । एक भागी ,दूसरी हाजिर।

प्रभु ! आप के चरण किधर है ?-मैने कहा।

--------

अब तो एक ज़माना हो गया वैलेन्टाइन डे मनाए हुए।


जब से  श्रीमती जी को वैलेन्टाईन डे के पीछे का "खेल" और ’रहस्य’ मालूम हो गया  तब से  आज के वह मुझे कैद-ए-बा मशक़्क़त की सज़ा दे देती हैं। 

आज 14-फ़रवरी है । आज कहीं आने -जाने को नी । नो बाग़-बगीचा ,नो गार्डेन ।सर में जास्ती तेल-फ़ुलेल लगाने को नी ।आज नो रोमान्टिक शे’र-ओ-शायरी ।  घर बैठो --गीता पढ़ो --रामायण पढ़ो ।’राम-धुन ’ गाओ --

आँखें नीची ,आवाज़ ऊँची --

मित्रो ! आज 14-फ़रवरी है और मैं रामायण की चौपाइयाँ पढ़ रहा हूँ ।जोर जोर से पढ़ रहा हूँ ।

बरु भल बास नरक कर ताता। 

दुष्ट संग जनि देइ बिधाता॥

---    --    --  -- 

नाम "लंकिनी’ एक निसचरी । सो कह चलसि मोहिं निंदरी ॥

 स्वामी आनन्दानन्द जी महराज कहते भए- घर में --

’त्रिजटा नाम राक्षसी एका ।--------

 प्रेम से  बोलो ’त्रिजटा’ मइया की जै ! वैलेन्टाइन महराज की जै ।

-आनन्द.पाठक-

-आनन्द.पाठक-

शुक्रवार, 15 जनवरी 2021

एक व्यंग्य 79 : दीदी ! नज़र रखना

 

एक हास्य-व्यथा  : दीदी ! नज़र रखना

 

"ट्रिन! ट्रिन !ट्रिन !-फोन की घंटी बजी और श्रीमती ने आदतन फ़ोन उठाया।

कहते हैं श्रीमती जी फ़ोन सुनती नहीं, ’सूँघती’ है और समझ लेती हैं कि किसका  होगा।

"हाँ  बिल्लो बोल  !"

"क्या दीदीऽऽ! तुम भी न! अरे ;बिल्लो नहीं --बिट्टो बोल रही हूँ।बिट्टो।

;अरे हाँ रे  । तेरे "टुल्ले" जीजा को "लुल्ले " बोलते बोलते ’ट’ को ’ल’ बोल जाती हूँ न।हाँ बोल ।

" दीदी, मेरी बातें ध्यान से सुनना। आजकल जीजा के चाल चलन ठीक नहीं लग रहा है। तुम  तो ’फ़ेस बुक’ पर हो

नहीं। मगर मैं उनका हर पोस्ट पढ़ती हूँ । जाने किसे कैसे कैसे  गीत ग़ज़ल पोस्ट कर रहे हैं आजकल।मुझे तो  दाल में

कुछ काला लग रहा है ।  हाव भाव ठीक नहीं लग रहा हैउअनका। पिछले महीने एक रोमान्टिक गीत पोस्ट किया था ।

लिखा था-

खोल कर यूँ न ज़ुल्फ़ें चलो बाग़ में

प्यार से है भरा दिल,छलक जाएगा

 

 ये लचकती महकती हुई डालियाँ

 झुक के करती हैं तुमको नमन, राह में

 हाथ बाँधे हुए सब खड़े फ़ूल  हैं

 बस तुम्हारे ही दीदार  की  चाह में

 

यूँ न लिपटा करों शाख़  से पेड़  से

मूक हैं भी तो क्या ? दिल धड़क जायेगा

 

पता नहीं किसको घुमा रहे हैं  गार्डेन में,आजकल ?

 

’अरे ! ऊ का घुमायेंगे किसी को, कंजड़ आदमी । मुझे तो कभी घुमाया नहीं "--श्रीमती जी ने प्रतिवाद किया

और मैंने चैन की साँस ली ।

 

बिट्टो ने अपनी बात जारी रखते हुए कहा-"कल एक गीत पोस्ट किया है जीजा ने" । लिखा है

 

कैसे कह दूँ कि अब तुम बदल सी गई

वरना क्या  मैं समझता नहीं  बात क्या !

 

  एक पल का मिलन ,उम्र भर का सपन

  रंग भरने का  करने  लगा  था जतन

  कोई धूनी रमा , छोड़ कर चल गया

  लकड़ियाँ कुछ हैं गीली बची कुछ अगन

 

कोई चाहत  बची  ही नहीं दिल में  अब

अब बिछड़ना भी  क्या ,फिर मुलाक़ात क्या !

वरना क्या मैं समझता----

 

लगता है जिसको घुमा रहे थे ,वो छॊड़ कर भाग गई । कभी कभी फ़ेसबुक भी चेक कर लिया करो इनका।

मुझे तो कुछ लफ़ड़ा लग रहा है । ज़रा कड़ी नज़र रखना जीजा पर ।

 

" हाँ बिट्टो ! मुझे भी कुछ कुछ ऐसा लग रहा है ।पिछले हफ़्ते बाथरूम में एक फ़िल्मी गाना गा रहे थे।

 

किसी राह में ,किसी मोड़ पर

 --कहीं चल न देना तू छोड़ कर । मेरे हम सफ़र ! मेरे हम सफ़र

 

किसी हाल में ,किसी बात पर

कहीं चल न देना तुम छोड़ कर---मेरे हम सफ़र ! मेरे हम सफ़र !

 

पता नही किस को छोड़ने की बात कर रहे थे।

मैने टोका भी आजकल बड़े गाने बज़ाने हो रहे हैं जनाब के तो ।

बोले कितना सुन्दर गाना है।।मैने पूछा कौन ? , गाना ? कि गानेवाली ?

तो कहने लगे कि तुम्हारे दिमाग़ में  तो कचड़ा भरा है ।मोदी जी को एक सफ़ाई अभियान इधर भी शुरु

कर देना चाहिए ।

अभी कल ही एक गाना  सुना उनका ।आँख बन्द कर बड़े धुन में गा रहे थे।

 

-ऎ मेरे दिल-ए-नादाँ--तू ग़म से न घबराना

इक दिन तो समझ लेगी --दुनिया तेरा अफ़सान

 

मुझे भी कुछ ठीक नहीं लग रहा है,आजकल । पता नहीं कौन सा अफ़साना दुनिया को समझा रहे थे।

c

बिट्टो ने अपनी लगाई बुझाई जारी रखते हुए कहा--" !कल ही जीजा का एक पोस्ट देखा था,लिखे थे।

 

जब से छोड़ गई तुम मुझको

सूना सूना  दिल का कोना ।

साथ भला तुम कब तक चलती

आज नहीं तो कल था होना ।

 

दीदी !’इनके’ दोस्त कह रहे थे कि सरकारी सेवा से रिटायर हुआ आदमी खुल्ला सांड  हो जाता है ।गले से ’Conduct Rules ’ का  पगहा Rules 14,16 का फ़न्दा  छूट जाता है|
सारे बुड्ढे कहते हैं कि मस्ती की जिन्दगी तो 60 के बाद शुरु होती है।हमे तो डर लग रहा है कि जीजा कहीं नई ज़िन्दगी न शुरु कर दें 

 

"अरे ! तू चिन्ता न कर बिट्टो ! ये लिखना पढ़ना गाना बजाना  जितना कर लें। मगर जा कहीं नही  सकते ।कुछ तो ’करोना’ ने क़ैद कर दिया,

कुछ मैने ’क़ैद-ए-बा मशक़्कत ’ कर दी है॥ मटर छिलवाती हूँ ,प्याज कटवाती हूँ ।कभी कभी तो ’झाड़ू पोछा’ भी करवा लेती हूँ इन से।

 "पर कटा पंक्षी" बना दिया है इनको । " पर कटा पक्षी " फ़ुद्क तो सकता है उड़ नहीं सकता ।

 

अरे! तो कहीं फ़ुदकते फ़ुदकते ही न निकल जाए _-- कह कर बिट्टो ने फ़ोन रख दिया ।छ

 

-आनन्द.पाठक-

एक व्यंग्य 78 : गुड मार्निंग

 

एक लघु व्यथा :गुड मार्निंग

 

’मम्मी ! मम्मी ! अब वो ’अंकल’ ह्वाटस ’ पर नहीं आते ?-छोटी बेटी ने एक मासूम-सा सवाल किया

"कौन बिट्टो ?"

"वही अंकल,जो हर रोज़ सुबह सुबह ’गुड मार्निंग’ करते थे। फ़ूल भेजते थे ।गुड नाइट करते थे ।शे’र,शायरी भेजते थे ,ह्वाटस पर।"

 नहीं बिट्टो ! अब वह कभी नहीं आयेंगे। मैने मार दिया उन्हें । आइ हैव किल्ड हिम ।

 बिट्टो आश्चर्य से मम्मी का मुँह देखने लगी। फिर वही मासूम-सा  सवाल -कैसे मम्मी ?

 "अगर किसी अपने सच्चे चाहने वाले को ”ब्लाक’ कर दो तो कुछ दिन बात वह तड़प तड़प कर मर जाएगा"

कह कर मम्मी नम आँखों से किचेन में चली गईं ।

 बिट्टो को यह बात समझ में नहीं आई । अभी वह इतनी बड़ी नहीं हुई थी ।

-आनन्द.पाठक--