बुधवार, 16 जनवरी 2019

व्यंग्य 53 : आँख दिखाना---

एक व्यंग्य : आँख दिखाना

--आज उन्होने फिर आँख दिखाई

और आँख के डा0 ने अपनी व्यथा सुनाई--" पाठक जी !यहाँ जो मरीज़ आता है ’आँख दिखाता है " - फीस माँगने पर ’आँख दिखाता है ’। क्या मुसीबत है ---।

--" यह समस्या मात्र आप की नहीं ,राजनीति में भी है डा0 साहब " मैने ढाँढस बँधाते हुए कहा-"जब कोई अपना गठबन्धन छोड़ कर सत्तारूढ़ ’गठ बन्धन ’में आता है तो ’आँखें झुकाते’--नज़रे मिलाते हुए आता है और जाता है तो ’आँख दिखाते" हुए जाता है।
-आज उसने फिर आंख दिखाई
उन दिनों, जब मैं जवान हुआ करता था और आँखें मिलाने की स्थिति में था ।और जब मैने " उस से"आँख मिलाई तो उसने ’आँखे झुकाई’ । इसी मिलाई- झुकाई में पता नहीं कहाँ से उसका मुआ बाप आ गया और लगा आँखें दिखाने । वो तो भला हुआ कि पिटते-पिटते बचा।
मगर राजनीति में ’आँख दिखाना ’ का मतलब घटक दल का सत्तारूढ़ पार्टी को ’संदेश’ देना । ।वहाँ ’संदेशों’ का आदान-प्रदान ऐसे ही होता है।
विरोधी पार्टी आपस में कभी आँख नहीं दिखाते --बस आँखे मिलाते है और ’गठबन्धन’ बनाते है ।जब ज़रा और ’आंख दिखाना हुआ तो ’महागठबन्धन ’ बताते है -भले ही 2-आदमियों का गठबन्धन क्यों न हो। इससे जनता पर प्रभाव पड़ता है।
आँख दिखाने का काम सत्ता-पक्ष वाली पार्टियाँ करती रहती है -समय समय पर । अपने को ज़िन्दा समझवाने का एहसास कराने के लिए ।
--आज नेता जी ने फिर आँख दिखाई
अध्यक्ष जी ने पूछ ही लिया-
-"इशारों इशारों में धमक देने वाले ,बता ये हुनर तूने सीखा कहाँ से ?
तो नेता जी ने भी तुर्की ब तुर्की जवाब दिया -
’ जुमलों ही जुमलों सब को चराना ,मेरे सर जी! सीखा है तुम ने जहाँ से

कारण ? कारण कुछ भी नहीं । कारण बहुत कुछ । इतने साल ’सत्ता से चिपके रहे .मलाई खाते रहे । जब चुनाव नज़दीक आया तो अचानक ख़याल आया अरे मेरा तो ’सम्मान’ ही नहीं है इस पार्टी में ।आँख उठा कर देख भी नहीं रहे हैं ये लोग हमे तो । अरे भाई ,हम दलित हैं तो क्या--हम शोषित है तो क्या---हम वंचित है तो क्या ---मेरा असम्मान देश के समस्त दलित--शोषित पीड़ित --वंचित लोगों का अपमान है --हम अपने भाईयों का अपमान सहन नहीं-- देश हित का अपमान सहन नहीं कर सकते --
"-- भाई साहब ! दलितों शोषितों वंचितों के लिए तो बहन जी है न देख भाल के लिए"
"-अरे ऊ कब से दलितों की नेता बन गईं--दलितों - वंचितों का सबसे बड़ा नेता ’मैं ’।कल तक हम आप की "आँखों के तारे थे ,--आँखों की पुतली थे --अब --आँखों की किरकिरी बन गए ? अगर मुझे सम्मान जनक ढंग से सीटें न मिली तो गठबन्धन से अलग भी हो सकता हूँ।विकल्प खुले हुए हैं -- मैं ’पद’ का भूखा नहीं ,मैं कुर्सी का भूखा नहीं [शायद मलाई ख़तम हो रही है ] -मैं देश की ग़रीब भाईयों के बारे में सोचता हूँ --बेरोज़गार नौजवानों भाईयों के बारे में सोचता हूँ --किसान भाईयों के बारे में सोचता हूँ । देश हित के बारे में सोचता हूँ ---मेरी पार्टी को 2-सीट दे रहें है-। इतना चिल्लर तो भीखमंगा भी नहीं लेता आजकल ----मात्र 2-सीट ? अगर आप ने 10-15 सीट नहीं दे तो हम आप की आँखों से काजल भी चुरा सकते है ।10-20 एम0एल0ए0 हैं सम्पर्क में मेरे ।हम लोकसभा में ’आँखे नहीं मारते ।--हम आँख मूँद कर सपोर्ट भी नहीं करते -----फिर मेरे मजदूर किसान भाइयॊं का क्या होगा ? मेरी माताओं बहनों का क्या होगा? देश की सेवा का क्या होगा ? ---’ -नेता जी ’आखें दिखा रहे थे और सत्ता पक्ष रहस्य समझ रहा थ।
’--अरे भाई साहब ! देश हित सोचने के लिए और नेता है न -शहर की चिन्ता में काज़ी क्यॊं दुबला
" नेता ? कोन नेता ? मेरे सिवा और कौन नेता ? ---सब झूठ के नेता है --कहते है कि हमें राज्यसभा की सीट दिलवा दो।हमें राजपाल बना दो --हमें उस समिति का अध्यक्ष बना दो ---अरे वो क्या भला करेंगे देश का--??
----
ख़ैर सत्ता-पक्ष के गठबन्धन ने उन्हें 3- सीट दे दिया
1-सीट और मिलने से , नेता जी का सम्मान लौट आया -पगड़ी -ऊँची हो गई --उनकी जाति भाईयों का सम्मान लौट आया । समझदार थे-पता था दूसरे दल के गठ बन्धन में जायें --चुनाव के बाद ’मलाई’ मिले न मिले }यहाँ जितना मिल रहा है -उतना तो चाट लें-डकार लें --चमचों में उत्साह दौड़ आया- कार्यकर्ताओं ने नारा लगाया ---" भईया जी अमर रहें-अमर रहें -जब तक सूरज चांद रहेगा--भईया जी का नाम रहेगा---भईया जी आगे बढ़ो--हम तुम्हारे साथ हैं"--देश का नेता कैसा हो? भईया जी जैसा हो ।-वातावरण ’महक’ उठा।
और नेता जी ने सुबह बयान दे दिया----देश का विकास --देश तोड़क शक्तियों का विनाश कोई कर सकता है -तो हमारा गठबन्धन ही कर सकता है_ सत्तारूढ़ पार्टी ही कर सकती है ---"हम सीटों की संख्या पर नहीं रिश्ते पर विश्वास रखते हैं --- निभाते हैं --हम अपने ग़रीब भाइयों के लिए ऐसी सीटों को दस बार लात मार सकता हूँ -----भारत माता की जय--वन्दे मातरम ---

इधर ’बुधना’ मन ही मन मुस्कराता है

बेख़ुदी बेसबब नहीं ग़ालिब’
कुछ तो है जिसकी पर्दादारी है

===
-सुना -कल साधु-सन्तों नें ’आँखें दिखाईं- । अगर ’राम मन्दिर’ नहीं बना तो आगामी चुनाव में क्या मुँह लेकर जायेंगे आप ?
---सत्ता पक्ष का गठ बन्धन व्यस्त हैं -"आँखे दिखाने " में
विरोधी पक्ष की पार्टियाँ मस्त हैं - ’आंखे मिलाने में। भले ही उनकी आँखों का पानी मर रहा हो ।
गाँव का ’बुधना’ त्रस्त है --अपनी आँख के मोतिया बिन्द से-।सोच रहा है कर्जा उतरे तो आपरेशन कराएँ।
"जनता तो पिछले कई दशक से एक ही चेहरा देखते आ रही है--झूट का चेहरा- ।

जब तवक़्को ही उठ गई ’ ग़ालिब’
क्यों किसी का गिला करे कोई


क्या मन्दिर-क्या मस्जिद ? मन्दिर बने न बने --बनते हुए प्रतीत होना चाहिए -- आग जलती रहनी चाहिए।
भारत का लोकतन्त्र आगे बढ़ रहा है इन्हीं ’आँख मिलाने से , आँख -दिखाने से-आँख मारने से --आँख चुराने से ।
अस्तु



-आनन्द.पाठक-

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें