शुक्रवार, 15 जनवरी 2021

एक व्यंग्य 78 : गुड मार्निंग

 

एक लघु व्यथा :गुड मार्निंग

 

’मम्मी ! मम्मी ! अब वो ’अंकल’ ह्वाटस ’ पर नहीं आते ?-छोटी बेटी ने एक मासूम-सा सवाल किया

"कौन बिट्टो ?"

"वही अंकल,जो हर रोज़ सुबह सुबह ’गुड मार्निंग’ करते थे। फ़ूल भेजते थे ।गुड नाइट करते थे ।शे’र,शायरी भेजते थे ,ह्वाटस पर।"

 नहीं बिट्टो ! अब वह कभी नहीं आयेंगे। मैने मार दिया उन्हें । आइ हैव किल्ड हिम ।

 बिट्टो आश्चर्य से मम्मी का मुँह देखने लगी। फिर वही मासूम-सा  सवाल -कैसे मम्मी ?

 "अगर किसी अपने सच्चे चाहने वाले को ”ब्लाक’ कर दो तो कुछ दिन बात वह तड़प तड़प कर मर जाएगा"

कह कर मम्मी नम आँखों से किचेन में चली गईं ।

 बिट्टो को यह बात समझ में नहीं आई । अभी वह इतनी बड़ी नहीं हुई थी ।

-आनन्द.पाठक--

 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें